Loading...
हिंदी समाचार

क्या टूट रहा है आतंक का कुनबा ?

खबर है कि कश्मीर में कोहराम मचाने और घाटी को घायल करने का मकसद रखने वाले आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा में दरार पड़नी शुरू हो गई है। लश्कर ए तैयबा को पैदा करनेवाला हाफिज सईद और लश्कर का टॉप कमांडर जकी उर रहमान लखवी अब आमने सामने हैं। खबर है कि कुछ मुद्दों पर दोनों के बीच तनातनी चल रही है। दोनों आतंकियों में अनबन की वजह संगठन के नाम के इस्तेमाल को लेकर है।
भारतीय खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट में दोनों आतंकवादियों के बीच कश्मीर में हिंसा फैलाने के तरीके को लेकर मतभेद होने की बात कही गई है।  खुफिया इनपुट्स के मुताबिक लश्कर भारत में बड़े हमले करने की तैयारी कर रहा है और लखवी ने अपने खास लोगों को पाकिस्तान के गैर कानूनी कब्जे वाले कश्मीर में तैनात होने के लिए कहा है।

खबर है कि जकीर-उर-रहमान लखवी कश्मीर में आतंकी हमला करके अलगाववादी नेताओं की हत्या की साजिश रच रहा है। इस वजह से हाफिज सईद ने लखवी को कड़े निर्देश दिए कि कश्मीर में होने वाले किसा भी आंतकी हमले में लश्कर-ए-तैयबा का नाम नहीं आना चाहिए। इसकी जगह कश्मीर छोड़ो आंदोलन के नाम से प्रेस रिलीज जारी की जाए।

दरअसल हाफिज सईद ने ये सब इसलिए कहा है क्योंकि हाफिज ये पुख्ता करना चाहता है कि भारत में हो रहे आतंकी हमलों में किसी भी तरह से उसका या उसके आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का नाम ना आए। लेकिन बताया जा रहा है कि उसके इस फरमान  लश्कर के टॉप कमांडर जकीर-उर-रहमान लखवी को रास नहीं आ रहे।

लश्कर ए तैयबा में कलह 26/11 मुंबई आतंकी हमले के बाद से ही होने लगी थी जब पाकिस्तान सरकार की ओर से हाफिज पर शिकंजा कसा था । और कुछ दिनों पहले हाफिज को नजरबंद तक रखा गया था। साथ ही अंतर्राष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान ने हाफिज को भारत में आतंकी हमलों में सीधे शामिल होने से मना किया है।

अब इन खबरों में कितनी सच्चाई है ये तो फिलहाल साफ नहीं है लेकिन आतंक की जड़ कश्मीर में कमज़ोर होती नज़र आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *